500 Words : समय पर निबंध – Samay Par Nibandh

समय पर निबंध – Samay Par Nibandh

 
Samay Par Nibandh

“Time is money’ और वास्तविकता भी यही है कि समय धन से भी अधिक मूल्यवान है। परिश्रम द्वारा कमाया हुआ धन यदि न हो जाए तो उसे पुना अर्जित किया जा सकता है, लेकिन एक बार बीता हुआ समय फिर दुबारा लौट कर नहीं आता। समय तो ईश्वर का अनुपम वरदान है, जिसे न बढ़ाया जा सकता है और न घटाया जा सकता है।

मानव को जीवन का प्रत्येक क्षण अमूल्य है। यदि एक क्षण का भी दुरुपयोग होता है तो मानव सभ्यता का विकास चक्र रुक जाता है। एक पल की शिथिलता जीवन भर का पश्चाताप बन जाती है। उपयुक्त समय पर उपयुक्त कार्य करना चाहिए। रोगी के मर जाने पर उसे औषधि प्रदान करने से कोई लाभ नहीं होता है । 

समय का चूका हुआ व्यक्ति और डाल से चूका हुआ बंदर पुनः अपने अतीत को नहीं पा सकता और समय बीत जाने के बाद मनुष्य लाख कोशिश करे लेकिन, “अब पछताये होत क्या जता चिड़िया चुग गई खेत ।”

समय कितना बलवान है क्या हम सभी को ज्ञात है समय निकल जाने के बाद हमें समय के महत्व का पता चलता है सभी लोगों को समय के महत्व के बारे में ज्ञात है लेकिन फिर भी लोग इस बात को नजरअंदाज करते हैं। नजर अंदाज करने के बाद जब हमें पश्चाताप करना पड़ता है। तब यह बात समझ में आती है कि समय कितना बलवान होता है। अभी तक समय पर अनगिनत पुस्तक लिखी जा चुकी है। इसमें समय के महत्व पर विस्तार से बताया गया है।

समय का महत्व नहीं देने के कारण हमें बड़ी बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और जिन्होंने समय के महत्व को नहीं समझा है। आगे चलकर वह पश्चाताप जरूर करते हैं। जैसे कि काफी व्यक्ति होते हैं जो कि समय से पहले ही पढ़ाई छोड़ देते हैं और जब उन्हें शिक्षा नहीं होने के कारण कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। तब उन्हें यह समझ में आता है कि काश उस समय हमने पढ़ लिया होता तो आज हमें किन कठिनाइयों का सामना बिल्कुल भी नहीं करना पड़ता। 

समय के महत्व को दो-चार पंक्तियों में बयान नहीं किया जा सकता है। इस पर जितना भी लिखे उतना कम ही पड़ता है। समय के महत्व के बारे में हमें अपने विद्यालयों में भी काफी बार सिखाया गया है। हमें अपने माता-पिता के द्वारा भी समय के महत्व के बारे में ज्ञान दिया गया है। लेकिन काफी बार लोग इसे नजरअंदाज कर देते हैं। इसके कारण में आगे चलकर एहसास होता है कि उन्होंने उस समय को व्यर्थ कर दिया है लेकिन पछता भी कोई फायदा नहीं। क्योंकि समय वापस लौटकर नहीं आता है।

लेकिन वह हर बार हमारे लिए एक नई सीख जरूर देखा जाता है। अतः इस लेख से मैया सारांश मिलता है कि हमें समय का महत्व देना चाहिए और समय को कभी भी व्यर्थ नहीं करना चाहिए नहीं तो आगे हमें भी पश्चाताप का सामना साथ ही समय को व्यर्थ करने के कारण हमें विभिन्न प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। समय बड़ा मूल्यवान है हमे इसे व्यर्थ नहीं करना चाहिए।

Leave a Comment